नमस्कार दोस्तों आज हम अपने इस महत्वपूर्ण लेख के माध्यम से आप सभी लोगों को एक ऐसे आईएएस ऑफिसर Vikash divyakirti के बारे में बताने वाले हैं, जिन्होंने आईएएस जैसी सबसे बड़े सम्मानजनक पद वाले जॉब को छोड़कर एक अध्यापक व लेखक बनना स्वीकार किया। इन्होंने आईएएस ऑफिसर बनने के बाद अपने आईएएस की जॉब छोड़ दी और एक अध्यापक बन गए। अब आप तो समझ गए होंगे कि हम किसकी बात कर रहे हैं। जी हां, आपने बिल्कुल सही अनुमान लगाया हम बात कर रहे हैं प्रसिद्ध अध्यापक डॉ. विकास दिव्यकीर्ति के बारे में। डॉ. विकास दिव्यकीर्ति ने आईएएस की जॉब छोड़ कर बच्चों को सफलता प्राप्त कराने के लिए स्वयं को एक अध्यापक के रूप में चुना। डॉक्टर विकास दिव्यकीर्ति बहुत ही उदार दिल के व्यक्ति हैं। आज हम अपने इस महत्वपूर्ण लेख में डॉ विकास दिव्यकीर्ति के बारे में ही विस्तार पूर्वक से चर्चा करेंगे।

विकाश दिव्यकीर्ति नेट वर्थ
विकाश दिव्यकीर्ति नेट वर्थ

आज इस लेख में डॉ विकास दिव्यकीर्ति कौन है? डॉक्टर विकास का जन्म कब और कहां हुआ था? डॉ विकास को प्राप्त शिक्षा और डॉ विकास कीर्ति का करियर इत्यादि विषयों पर विस्तार पूर्वक से जानकारी प्राप्त कराएंगे। यदि आप डॉक्टर विकास दिव्यकीर्ति के बारे में विस्तारपूर्वक से जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया आप हमारे द्वारा लिखे गए इस महत्वपूर्ण लेख को अंदर तक अवश्य पढ़ें।

Dr Vikas Divyakirti Biography

नाम विकास दिव्यकीर्ति
उपाधि डॉ विकास दिव्यकीर्ति
जन्म 1976
जन्म स्थान हरियाणा
माता का नाम ज्ञात नहीं
पिता का नाम ज्ञात नहीं
धर्म हिंदू
शिक्षा यूपीएससी योग्य
नेट वर्थ ज्ञात नहीं है

विकास दिव्यकीर्ति का शारीरिक माप

डॉ विकास दिव्यकीर्ति की शारीरिक बनावट काफी अच्छी है, इनकी ऊंचाई लगभग 5 फीट 5 इंच है और इनका वजन लगभग 62 किलोग्राम के आसपास है। डॉ विकास दिव्यकीर्ति के बाल और आंख दोनों एक ही रंग के हैं। डॉ विकास दिव्यकीर्ति के बालों और आंखों का कलर काला है। डॉ विकास दिव्यकीर्ति के पैर के पंजों की साइज लगभग 7 यूएस नंबर है, अर्थात इन्हें 7 यूएस नंबर के जूते लगते हैं।

उँचाई (लगभग) सेंटीमीटर में ऊंचाई 165 सेमी
उँचाई मीटर मे 1.65 मीटर
उँचाई फीट इंच में 5 फिट 5 इंच
वजन (लगभग) किलोग्राम में वजन 62 किलो
पाउंड में वजन 143 lbs
शारीरिक माप (लगभग) छाती का आकार 40 इंच
कमर का आकार 32 इंच
बाइसेप्स का आकार 14 इंच
आंखों का रंग काला
बालों का रंग काला

डॉ.विकास दिव्यकीर्ति की शिक्षा (Dr.Vikas Divyakirti Education)

डॉ विकास दिव्यकीर्ति बचपन से ही पढ़ाई लिखाई में काफी निपुण थे। इन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास विषय से  B.A degree हासिल की। इसके बाद इन्होंने अपना विषय बदल दिया और हिंदी साहित्य में m.a. और एम फिल  की पढ़ाई पूरी की। इनको को पूरा करने के बाद इन्होंने हिंदी विषय से ही P.hd भी पूरी कर ली और बाद में डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने समाजशास्त्र और जनसंचार विषयों में m.a की डिग्री प्राप्त की।

इसके बाद अपनी पढ़ाई को जारी रखते हुए इन्होंने L.L.B की भी डिग्री हासिल कर ली। डॉ विकास दिव्यकीर्ति हिंदी साहित्य विषय से यू.जी.सी, जे.आर.एफ. और समाजशास्त्र से नेट की परीक्षा को उत्तीर्ण किया। डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने दिल्ली के विश्वविद्यालय से और भारतीय विद्या भवन दोनों संस्थाओं से अंग्रेजी हिंदी अनुवाद में डिप्लोमा हासिल किया।

नाम शिक्षा
स्कूल का नाम सरस्वती शिशु मंदिर
कॉलेज का नाम दिल्ली, विश्वविद्यालय
शैक्षणिक योग्यता इतिहास में स्नातक, हिंदी में मास्टर एम.फिल और हिंदी में P.hd

डॉ. विकास का प्रारंभिक जीवन

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का जन्म साल 1976 मे हुवा हैं और उनका जन्म स्थान हरियाणा, भारत में हुआ हैं। उनका पालन पोषण भी और बचपन हरियाणा, भारत मे ही हुवा हैं। विकास की उम्र 2021 के अनुसार 45 वर्ष है। विकास के माता-पिता दिल्ली के एक विश्वविद्यालय में हिंदी साहित्य के प्रोफेसर थे। वह भी माता पिता की तरह हिंदी विषय में बहुत अच्छे थे। विकास अपने स्कूली जीवन में काफी अध्ययनशील थे।

अपनी स्कूली शिक्षा विकास ने सरस्वती शिशु मंदिर से पूरी की हैं। स्कूली शिक्षा पूरी होने के बाद विकास ने अपनी आगे की शिक्षा के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला लिया था। दिल्ली विश्व विद्यालय से विकास ने सफलतापूर्वक इतिहास विषय में स्नातक की उपाधि प्राप्त किया हैं। कुछ समय बाद विकास ने अपना विषय बदल दिया। एम.फिल और हिंदी विषय मे Phd की शिक्षा को पूरा किया।

डॉ. विकास ने लगभग पढाई मे काफी कुछ किया लेकिन वह कभी रुका नहीं क्योंकि वह खुद को समझ गया था कि वह कोई साधारण आदमी नहीं है। आगे जा के विकास ने  सोशियोलॉजी और मास कम्युनिकेशन में मास्टर की डिग्री हासिल किया और मास्टर की डिग्री पूरी करने के बाद L.L.B की डिग्री को पूरा किया। इतनी सारी डिग्री हासिल करने के बाद भी डॉ. विकास नहीं रुके थे।

विकास ने अपने इच्छुक क्षेत्र अंग्रेजी और हिंदी अनुवाद में डिग्री हासिल करने की कोशिश किया। बाद में फिर डॉ. विकास ने भारतीय विद्या मंदिर, दिल्ली विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया।उसी विश्व विद्यालय से पीजी की डिग्री को पूरा किया। वह शिक्षा को लेकर बहुत ही मग्न हो चुके थे और वह एक अच्छा इंसान बनने में सफल रहे।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का करिअर (Vikas Divyakirti biography of career)

अपने करियर की शुरुआत डॉ. विकास ने दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षक के रूप में किया था। डॉ. विकास इतने में ही संतुष्ट नहीं थे क्योंकि उसको अपने जीवन में कुछ बड़ा और बहुत अच्छा करने की इच्छा थी। बाद में विकास ने संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की परीक्षा की तैयारी करना शुरू कर दिया। विकास अपने आप मे विश्वास रखता था और उसे यकीन था की उसकी मेहनत एक दिन सफल जरूर होंगी। डॉ. विकास ने अपने UPSC के पहले प्रयास में सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक को सफलतापूर्वक पास कर लिया था और उनकी UPSC की परीक्षा पास करने की खुशी की कोई सीमा नहीं थी। यह उनके जीवन की बहुत बड़ी उपलब्धि थी।

भारत की केंद्र सरकार में गृह मंत्रालय में डॉ. विकास ने काम करना शुरू किया था लेकिन एक साल बाद विकास ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। डॉ. विकास ने अपना एक YouTube चैनल साल 2017 मे शुरू किया था और कुछ समय बाद विकास का वीडियो YouTube पर काफी प्रसिद्ध हो गया था और उन्होंने 5.8 मिलियन से अधिक लोग उनसे जुड़ चुके थे और उन्होंने YOUTUBE पर 3.8 हजार से अधिक वीडियो पोस्ट किए हैं। 2019 इस एक साल की डॉ. विकास की कुल संपत्ति 1 से 2 करोड़ रुपये हो चुकी है।

डॉ विकास दिव्यकीर्ति का परिवार और रिश्ता

डॉ विकास दिव्यकीर्ति के परिवार के बारे मे इंटरनेट पर कुछ भी जानकारी उपलब्ध नहीं हैं। उनके माता पिता के बारे मे भी कोई ज्यादा जानकारी नहीं मिली हैं, लेकिन डॉ विकास के माता-पिता दिल्ली यूनिवर्सिटी में हिंदी साहित्य के विषय के प्रोफ़ेसर थे। डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने एक मुलाकात मे कहा हैं, की उन्हें उनके माता-पिता से काफी सहयोग और प्यार मिला है और वह सदैव अपने माता पिता के एक अच्छे योगदान को बताते हैं। डॉ विकास दिव्यकीर्ति की इन सभी बातों से यह स्पष्ट होता है, कि वह अपने माता-पिता से काफी ज्यादा प्यार करते हैं। इस तरह से डॉ विकास दिव्यकीर्ति के परिवार के बारे मे छोटी सी जानकारी मिली हैं।

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का विजन

डॉ. विकास दिव्यकीर्ति की विरासत और चतुराई को हमने  पहले ही उपर के लेख में जान चुके हैं। डॉ. विकास अपने IAS करियर में छात्रों के विकास में अपने ज्ञान और स्मार्टनेस का निवेश करते हैं। मूल रूप से डॉ. विकास हर IAS करने के लिए आने वाले विध्यार्थी को सफल बनाने का लक्ष्य रखा हैं और डॉ. विकास इन विजन के लिए काफी मेहनत कर रहे हैं। अपनी पढाई मे डॉ. विकास आधुनिक तकनीकों का उपयोग कर रहे हैं और छात्र के दिमाग को बहुत ही प्रतिभाशाली बनाने के लिए आधुनिक  तरीकों का उपयोग कर रहे हैं।

डॉ. विकास अपने छात्र को सही ज्ञान दिलाने के लिए छात्रों को स्व-लिखित पुस्तकें पढ़ने की सलाह देते हैं और वह उपलब्ध भी करा रहे हैं। उनके पास छात्रों के लिए ऐसे अद्भुत और आधुनिक तकनीक हैं पढ़ने के लिए। यह उनके सारे अच्छे काम उनको एक बहुत लोकप्रिय और सशक्त व्यक्ति बनाते जा रहे हैं।

डॉ विकास दिव्यकीर्ति के बारे में रोचक तथ्य

  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने दो-दो बार आईएस की परीक्षा दी और इन्होंने दोनों ही बार आईएएस की परीक्षा को पास कर लिया। डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने भारत के सबसे कठिन परीक्षा को पहले ही बार में पास कर लिया।
  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति को किसी कारणवश प्रॉपर आईएएस का पद नहीं मिला, इन्हें गृह मंत्रालय में जॉब मिल रही थी, परंतु उन्होंने इसे ठुकरा दिया।
  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने वर्ष 1996 में दिव्यकीर्ति कोचिंग सेंटर की स्थापना की जो कि वर्तमान समय में टॉप 5 कोचिंग सेंटर में से एक है।
  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति के माता और पिता दोनों ही दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिंदी साहित्य विषय में प्रोफ़ेसर थे।
  • डॉ विकास दिव्यकीर्ति ने वर्ष 2017 में यूट्यूब चैनल खोला जिस पर इनके कोचिंग के अध्यापक के द्वारा फ्री में अपने सब्सक्राइबर्स को शिक्षा प्रदान कर रहे हैं।

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह महत्वपूर्ण लेख “डॉ विकास दिव्यकीर्ति का जीवन परिचय (Dr Vikas Divyakirti Biography in Hindi)” काफी पसंद आया होगा। यदि हां तो कृपया इसे अवश्य शेयर करें और यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी भी प्रकार का सवाल या फिर कोई सुझाव है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here