शुद्ध आदमी, शुद्ध आदमी नेट वर्थ, शुद्ध आदमी भाई, शुद्ध आदमी उम्र, शुद्ध आदमी आखिरी फिल्म, शुद्ध आदमी पिता, शुद्ध आदमी बेटा, शुद्ध आदमी भाई का नाम, शुद्ध आदमी मृत्यु का कारण

ओम पुरी भारतीय फिल्मों के एक प्रसिद्ध अभिनेता थे। ओम पुरी ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फ़िल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की थी। उन्‍होंने हिन्‍दी के अलावा अंग्रेजी, मराठी, कन्‍नड और पंजाबी फिल्‍मों में भी काम किया था। उन्हे भारत का चौथा नागरिक सम्मान पुरस्कार पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। तो आइए आज इस आर्टिकल में हम आपको ओम पुरी की जीवनी – Om Puri Biography Hindi के बारे में बताएगे।

पुरी जीवनी के बारे में | ओम पुरी नेट वर्थ

ओम पुरी जीवनी

ओम पुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 को हरियाणा के अम्बाला शहर में हुआ। उनका पूरा नाम ओम राजेश पुरी था। उनके पिता का नाम राजेश पुरी तथा उनकी माता का नाम तारा देवी था। ओम पुरी ने 1991 में अभिनेता अन्नू कपूर की बहन सीमा कपूर से शादी की, लेकिन उनकी शादी आठ महीने बाद खत्म हो गई।

1993 में, उन्होंने पत्रकार नंदीता पुरी से विवाह किया, जिनके साथ उनके पास ईशान पुरी नाम का एक बेटा था। 2009 में, नंदीता ने अपने पति की एक जीवनी लिखी, जिसका शीर्षक अनलिली हीरो: द स्टोरी ऑफ ओम पुरी। पुस्तक के प्रकाशन पर, पुरी ने अपने पिछले रिश्तों के स्पष्ट विवरण को शामिल करने पर अपने क्रोध की बात की। 2013 में, नंदीता ने उनके खिलाफ घरेलू हिंसा का आरोप दायर किया, और दोनों ने जल्द ही बाद में न्यायिक अलगाव का विकल्प चुना।

  • नाम – ओम प्रकाश पुरी
  • उपनाम – फिल्मों का सिकंदर
  • प्रोफेशन – अभिनेता
  • लम्बाई – 170 Cm
  • जन्म – 18 अक्टूबर 1950
  • जन्म स्थान – अंबाला, हरियाणा, भारत
  • राशि – तुला
  • राष्ट्रीयता – भारतीय
  • गृहनगर – मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
  • पहली डेब्यू फिल्म – मराठी (अभिनेता) – घेशीराम कोतवाल (1972)
  • पहली बॉलीवुड फिल्म – गोधूलि (1977)
  • ओमपुरी की पहली हॉलीवुड मूवी – City of Joy (1992)
  • टीवी में काम किया – टीवी- The Jewel in the Crown (1984, English TV series)
  • मृत्यु – 6 जनवरी, 2017 (अंधेरी, मुंबई, भारत)
  • मृत्यु का कारण – हृदयाघात (रहस्यमय परिस्थितियों में मृत्यु)
  • शौक/अभिरुचि – यात्रा करना
  • कुल सम्पति – $20 million

ओमपुरी की शिक्षा –

अभिनेता ओमपुरी ने अपनी शुरुआती शिक्षा सरकारी हाई स्कूल, सनौर से हुई थी, बाद में इन्होने भारतीय फिल्म और टेलिविज़न संस्थान, पुणे और नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा, नई दिल्ली से स्नातक (अभिनय) किया था।

करियर

ओम पुरी ने अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत मराठी नाटक पर आधारित फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की थी।वर्ष 1980 में रिलीज फिल्म “आक्रोश” ओम पुरी के सिने करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुई। ओम पुरी ने अपनी हिंदी सिनेमा करियर में कई सफल फिल्मों में अपने बेहतरीन अभिनय का परिचय दिया है। एक बिना फ़िल्मी परिवार से होने के कारण उन्हे हिंदी सिनेमा में अपनी जगह बनाने के लिए काफी कड़ा संघर्ष करना पड़ा। उन्हें हिंदी सिनेमा में अपनी बेहतरीन अभिनय के चलते कई पुरुस्कारों से भी नवाजा गया है।

पसंदीदा चीजें

  • ओमपुरी को भोजन में ब्रेन करी पसंद थी।
  • एलेक गिनीज, अमिताभ बच्चन, नसीरुद्दीन शाह, पंकज कपूर और कमल हासन, इनके पसंदीदा हीरो है।
  • शबाना आज़मी, स्मिता पाटिल, नूतन, माधुरी दीक्षित, प्रियंका चोपड़ा, रानी मुखर्जी और काजोल इनकी पसंदीदा पसंदीदा अभिनेत्रियाँ थी।
  • पसंदीदा फिल्म हॉलीवुड- Fiddler on the Roof (1971)
  • बॉलीवुड- नायगन(1987), पुष्पक (1987), देव (2004)

फिल्मों और टेलीविजन में कैरियर

वर्ष 1976 में ओम पुरी की पहली फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ रिलीज हुई थी। यह फिल्म इसी नाम के एक मराठी नाटक पर आधारित थी। ओम पुरी ने अभिनेता अमरीश पुरी, नसीरुद्दीन शाह, शबाना आज़मी और स्मिता पाटिल के साथ ‘भूमिका’ (1977), ‘भवानी भवई’ (1980), ‘सद्गति’ (1981), ‘अर्ध सत्य’ (1982) और मिर्च मसाला (1986) जैसी कई फिल्मों में अभिनय किया। इन फिल्मों को आमतौर पर समानांतर सिनेमा या आर्ट्स फिल्मों के रूप में वर्गीकृत किया जाता है, जो उस समय की हिंदी फिल्मों की मुख्यधारा से बहुत अलग थीं। ओमपुरी ने सत्यजीत रे की फिल्म सद्गति, मृणाल सेन की जेनेसिस और चोख तथा देवशिशु में उत्प्लेन्दु चक्रवर्ती जैसे सर्वश्रेष्ठ बंगाली निर्देशकों के साथ काम किया।

ओम पुरी ने कई फिल्मों में कुछ यादगार भूमिकाए निभाई हैं, जिनमें आक्रोश (1980) में पीड़ित आदिवासी लाहान्या भीकू की, आरोहण (1982) में एक गरीब साझेदार किसान हरि मंडल की, अर्ध सत्य (1983) में मुंबई के एक पुलिस अधिकारी अनंत वेलंकर की, सुषमा (1986) में रेशम बिनने वाला रामुलू की, सिटी ऑफ जॉय (1992) में कोलकाता के एक रिक्शा चालक हसारी पाल की, माई सन दि फैनेटिक (1998) में एक पाकिस्तानी कैब्बी जॉर्ज खान की, फिल्म ईस्ट इज ईस्ट (1999) में ब्रिटेन में एक मछली और चिप्स की दुकान के एक पाकिस्तानी मालिक की, माचिस (1996) में सिख आतंकवादियों के एक दल के नेता और कई अन्य शामिल हैं।

ओम पुरी बहुमुखी अभिनेता थे और बहुत आसानी से सभी प्रकार की भूमिकाओं को निभाने में माहिर थे। गंभीर भूमिकाओं में अभिनय करने के अलावा ओम पुरी ने फिल्म हेरा फेरी, दुल्हन हम ले जाएंगे और मालामाल वीकली में कॉमेडियन (हास्यपूर्ण) की भूमिकाएं निभाई थी, जो काफी उल्लेखनीय हैं। ओम पुरी ब्रिटिश फिल्मों जैसे माई सन दि फेनाटिक (1997), ईस्ट इज ईस्ट (1999) और पैरोल (2001) में अभिनय करने के कारण अंतर्राष्ट्रीय कलाकार बनने में कामयाबी हासिल की थी। ओम पुरी ने हॉलीवुड की फिल्में जैसे सिटी ऑफ जॉय (1992), वुल्फ (1994) और दि घोस्ट एंड दि डार्कनेस (1996) में भी अभिनय किया है। ओम पुरी ने वर्ष 1982 में निर्देशक रिचर्ड एटनबरो द्वारा निर्देशित और बेहद प्रशंसित फिल्म गांधी में अभिनय किया, जो महात्मा गांधी के जीवन पर आधारित है।

ओम पुरी का टेलीविजन में योगदान काफी सराहनीय था। वर्ष 1984 में ओम पुरी ने टीवी धारावाहिक ज्वेल इन द क्राउन में अभिनय किया था, जिसमें उन्होंने मि. डिसूजा की भूमिका निभाई थी। गोविंद निहलानी का प्रसिद्ध टीवी धारावाहिक, तमस को अभी भी ओम पुरी की सफलता के लिए याद किया जाता है, जो कि भीष्म साहनी के उपन्यास पर आधारित था। वर्ष 1988 में ओम पुरी ने श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित जवाहरलाल नेहरू की डिस्कवरी ऑफ इंडिया पर आधारित टीवी धारावाहिक भारत एक खोज में काम किया था। काकाजी कहिन उनका दूसरा हिंदी टीवी धारावाहिक था, जो राजनीतिज्ञों पर एक हास्य व्यंग्य और काफी लोकप्रिय धारावाहिक था।

ओम पुरी को ब्रिटिश फिल्म उद्योग में काम करने के लिए वर्ष 2004 में ऑर्डर ऑफ दि ब्रिटिश एम्पायर, ओबीई (मानद) से सम्मानित किया गया था। वर्ष 1998 में, ओम पुरी ने ब्रुसेल्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में फिल्म माई सन दि फेनाटिक के लिए क्रिस्टल स्टार बेस्ट एक्टर जीता। ओम पुरी फिल्म आक्रोश (1980) के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का फिल्मफेयर अवॉर्ड जीतने में कामयाब हुए थे। ओम पुरी ने वर्ष 1984 में अर्ध सत्य के लिए और वर्ष 1982 में आरोहण के लिए दो राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीते थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here